प्यासी बूँद

अथाह आकाश में तैरता एक मेघ घनेरा होता जा रहा था | उसकी गोद में असंख्य बूँदें अपनी निंद्रा में लीन थी | असीम शांति का माहौल था | मेघ भी हौले-हौले आगे बढ़ रहा था | पर एक बूँद जागृत अवस्था में बडे समय से मेघ के पथ को निहार रही थी | परन्तु अब उसके सब्र का बाँध टूट रहा था | मेघ अपने अन्दर उठी एक विचित्र कुलबुलाहट से ठिठक गया | गौर करने पर उसे वह बूँद दिखी |बूँद का हाल अजीब था मानो अभी धरती की ओर कूच कर जायेगी |

मेघ ने उससे पूछा “ इतनी छटपटा क्यों रही है तू नन्ही बूँद | देख तेरे संगी सुप्त है | समय आने तक सब्र कर री|”

बूँद मेघ से कुछ रोष और कुछ पीड़ा के संग बोल उठी “ मैं प्यासी हूँ |”

मेघ कुछ अचरज और कुछ हास्य मिश्रित वाणी में पूछ बैठा “ तू प्यासी है ??!!”

“ तुझे किसकी प्यास है री ?”

बूँद पट से बोली “ मुझे सागर को पीना है|”

बूँद की मुर्खता पर मेघ को हँसी भी आई और प्रेम भी |

“पर नन्ही सी तू सागर को  कैसे पी लेगी ! अरे पानी की बूँद है तू प्यासी कैसे हो सकती है ???”

पर बूँद के तेवर न बदले| वह बोली “ मेघा तू न समझेगा इस माया को! तू उड़ चल जल्दी से सागर की ओर |नदी के कोलाहल का सब्र न है अब मुझे में | सागर की है प्यास मुझे उड़ चल अब प्रश्न न कर | पी जओंगी मैं सागर को इतना खुद पर  है विश्वास मुझे |”

मेघ हतप्रभ था बूँद के दुस्साहस पर | अनगिन बूंदों का मसीहा था वो और आज ये छोटी नगण्य सी बूँद उसे निर्देश दे रही थी | पर मेघ ने भी ठानी कर लेने देते है इसको अपनी मनमानी | इसका हश्र तो होगा वोही जो अब तक सबका हुआ |

मेघ उड़ चला सागर की ओर | बूँद की कुल्बुल्हाहत अब बिजली बन कौंधने लगी थी | सागर तक पहुच मेघ सागर से बोला  “ सुन रे सागर आज तक मैंने देखि न सुनी पर मुझमे है एक बूँद समायी जो कहती है की तुझे पीने है पीने आई  |”

सागर से लहेरे उठी और उसने अट्टहास लगायी “ मेघा तू क्या बौरा गया है ? सागर को कौन पी सकता है | मुझमें लीन  होना ही बूँद का भाग्य है |”

अब तक मेघ में समाई हर बूँद जाग उठी थी और वो सब भी उस बावली हठ की मारी बूँद की मुर्खता पर चुटकी ले ले कर खिलखिला रही थी | मेघ को जाने क्यों अब उस बूँद पर तरस आने लगा था | पर इस परिहास से विचलित हुए बिना चुपचाप वो बूँद खुद को तैयार कर रही थी अपने मकसद को पूरा करने को | उसकी इच्छा की उर्जा अब भयंकर तड़ित बन कर कौंधने लगी थी | रात भर  सागर में तूफ़ान उठता रहा  और देखते ही देखते झर झर झर कर मेघा खाली हो गया |

सुबह हो गयी थी ! चहु ओर शांति अपने पग फैला रही थी | रात्रि के तूफ़ान का कही नामोनिशान न बचा था | मेघा का देह हल्का और श्वेत हो चला था ( मानो शोक व्यक्त कर रहा हो ) पर मन जाने क्यों भरी था | जाने कितने वर्षो से कितनी ही बूँदें उसमे समायी और बरस गयी | पर ऐसी हठी और धुन की पक्की बूँद उसने कभी न देखी थी | यूँ तो बूँद ने  मेघ से सिर्फ रोष , तड़प और हठ से भरी  वार्तालाप ही की थी पर फिर भी मेघ को रह रह कर उसका स्मरण हो रहा था |

नीचे सागर एकदम शांत था | शायद वह भी उस हठी बूँद का स्मरण कर रहा था| मेघ से रहा न गया | सोचा शायद सागर से दो बातें कर मन हल्का हो जाए |

“ सागर सुन बड़ी हठी बूँद थी ना | पर कितनी मूर्ख | अब देख तुझमे न जाने कहा लीन  हो गयी है | पर मुझे उसकी बड़ी याद सता रही है | मन बोझिल है यह जानते हुए भी की बूँद का भाग्य यही है |”

सागर शांत मेघ की बातें सुनाता रहा | पर उसके होंठो पर एक रहस्यमयी मुस्कान छाई थी | मेघ उसे देख कर बोला “ तू क्यों मुस्काता है सागर ? मेरी बातें क्या मज़ाक लगाती है तुझे ? तू भूल गया क्या उसे जो तुझे पीने को आतुर थी  पर मुर्ख भोली बूँद तुझ में समां कर खत्म हो गयी | पर सच कहू तो मुझे दुःख है उसके जाने का |”

और विशाल सागर ने लहरो की करवट ली और एक गहन प्रेम भरी वाणी  बोल उठी

“ अरे मेघा ! तूने पहचाना नहीं …. ये मैं ही तो हूँ |”

काश के कांच

शरद की जमी हुई सुबह की चुभन की तरह चुभते ये काश के कांच | किसी आइने के टुकड़ों की तरह बिखरें पडे मन के किसी कोने में चुपचाप पडे ये सोच के पैने कांच | काटते , रिसते ,चुभते हर ज़हन में छुप के बैठे हैं ये काश के कांच |

काश ये हुआ होता …. काश वो किया होता … काश वो मिला होता … काश ये न कहा होता … काश थोडा सब्र किया होता … काश थोड़ी महनत और की होती … काश कुछ खतरा उठाया होता …. काश ….काश … काश … काश ….

काश के धीमें से फुसफुसाते हुए छोटे बडे नोकीली कांच | शायद ये कांच नहीं है … बस सोच की जमी हुई बर्फ है जो जम कर पैनी धार ले बैठी है | जैसे मन के कोने में सोच रुक गयी हो और बार बार उसी पछतावे में उलझ कर उम्मीद की धुप खो चुकी हो | सब शिथिल हो जम गया हो जैसे…. और टूट टूट कर मन को घायल करते जा रहे हो उस काश के बर्फीले टुकडे |

शायद सोच को भी सदा चलायमान ही रहना चाहिए | यूँ ठहरने की भूल नहीं करनी चाहिए | ताकी समय रहते काश की कश्ती बनाकर उसे बह जाने दिया जा सके |